PariNav.org Blog

0

ज्यों ज्यों दवा की, मर्ज बढ़ता गया

देश के कई राज्यों विशेषकर पूरब के राज्यों- असम, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार आदि में बाढ़ की स्थिति गम्भीर बनी हुई है। असम और पश्चिम बंगाल की स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है,...

0

कत्ल या कानून से समाज नहीं बदलता

अहिंसा के अनन्य उपासक ,महात्मा गांधी के परम शिष्य ,प्रथम सत्याग्रही तथा  भूदान यज्ञ के प्रणेता आचार्य विनोबा भावे का अप्रतिम देन है आचार्यकुल।  आचार्यकुलम विनोबा भावे की उदात्त संकल्पना है । भूदान यज्ञ...

0

महात्मा गांधी : श्रद्धा और पुरूषार्थ का महाकाव्य

गांधी जी का  जीवन श्रद्धा एवं पुरूषार्थ   का महाकाव्य था । श्रद्धा सत्य के लिए और पुरुषार्थ अहिंसा के लिए । गांधी जी ने  एक बड़ा दावा किया था  कि सत्य उन्हें सहज प्राप्त...

0

बेरोजगारी : बीमारी को उपचार मानने का संकट

भारत युवाओं का देश है। देश में 65 प्रतिशत आबादी युवाओं की है,  मगर उनकी स्थिति ठीक नहीं है। उनके लिए न शिक्षा की उचित व्यवस्था है, न रोजगार की।  शिक्षा के व्यवसायीकरण के...

0

भगत सिंह और गांधी

भगत सिंह का जन्म 28 सितम्बर 1907 को बंगा, लायलपुर, पंंजाब  (अब पाकिस्तान)  में हुआ था। देशभक्ति उन्हे विरासत में मिली थी। जिस दिन भगत सिंह का जन्म हुआ था उसी दिन उनके पिता...

0

भगत सिंह और आज का भारत

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के लम्बे इतिहास के कई कई पड़ाव और मोड़  रहे हैं,जिनसे गुजरते हुए  देश 1947 में आजाद हुआ।इस इतिहास में क्रांतिकारियों का विशिष्ट स्थान है। बंगाल के एक युवा क्रांतिकारी खुदीराम...

0

चम्पारण सत्याग्रह के नायक थे राजकुमार शुक्ल

चम्पारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष में प्रकाशित  ‘सौ साल पहले चम्पारण का गांधी’ पुस्तक   पर एक  परिचर्चा  17 अगस्त 2017 को युवा संवाद अभियान एवं राष्ट्रीय सेवा योजना , लंगट सिंह महाविद्यालस के संयुक्त...

0

नील का धब्बा

चम्पारण देश के पूरब में नेपाल से लगा हुआ बिहार का जिला है जो अब दो हिस्सों पश्चिमी और पूर्वी चम्पारण में बंटा है। चम्पारण में बेतिय राज, रामनगर आदि कई स्टेट थे। इसमें...

0

सौ साल पहले चम्पारण का गांधी

चम्पारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष में प्रकाशित महत्वपूर्ण दस्तावेज एवं संग्रहणीय उपन्यास ऐतिहासिक घटनाओं और पात्रों पर उपन्यास लेखन रचनाकारों के लिए हमेशा आकर्षण का केन्द्र रहा है। साथ ही ऐतिहासिक घटनाओं एवं पात्रों...

0

बिहार में पाला-बदल के निहितार्थ

– अशोक भारत बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 26 जुलाई को इस्तीफा दे कर  राज्य में महागठबंधन की सरकार का अंत कर दिया।  24 घंटे के अंदर ही भाजपा के साथ मिलकर  छठी...